Struggle for Hindu Existence

*Hindu Rights to Survive with Dignity *Join us in Hindu Freedom Movement *Jayatu Jayatu Hindu Rashtram *Editor: Upananda Brahmachari

Ringing Bell in Temple stopped by Muslims in India. Muslims are snatching every right from Hindus in Muslim majority areas in India.

Posted by hinduexistence on January 28, 2012

Every where in Muslim Populated areas in India, Hindus are discarded from their Religious rights.

Congress Govt. agrees ‘Aurangzebi Fatwa’ to STOP RINGING BELL IN TEMPLE in Bhagyanagar through its Muslim allies in Majalis Ittehadul Muslimin. 

Bhagyanagar (Hyderabad) : 25th January : HE News Desk Hyderabad ~ late script || 
……………………………………………….
……………………………………………….

Anti-Hindu Congress Government in Andhra Pradesh has banned ringing of bell in Sri Bhagyalakshmi Temple in Char Minar area in Bhagyanagar. The Government has also imposed ban on performing ‘Maha-aarti’ and has deployed police force to implement the ban. Akbaruddin Owaisi a Member of Legislative Assembly (MLA) of ‘MIM (Majalis Ittehadul Muslimin)’, a Muslim Political Party being the alliance with State Congress Party of Andhra Pradesh, a southern state in India,  has demanded to impose ban on processions taken out on Hindu festivals viz. ‘Ram-Navami’ and ‘Hanuman-Jayanti’. Hindu organizations are angered due to such demand by Owaisi. In a country where Hindus are in majority, a Muslim MLA, demanding ban on processions taken out during Hindu festivals, indicates that Hindus are staying in Pakistan and not in India. Muslims are now demanding ban on Hindu processions; tomorrow, they will demand for demolition of Hindu temples and will, later, demand that Hindus should become either Muslims or leave their womenfolk behind.

Unfortunately, Muslims are considered as a very lucrative vote bank for all the political parties in India and they are giving every concessions  to the Muslims including special educational felicity in Madrasha, establishing Mosques and Muslim grave yards, reservation quota in services and jobs, special loans and arrangements for their business, felicities in personal laws under Shariyat, subsidy in Haj pilgrimage and many thing more.

Actually, lack of unity among Hindus is responsible for such situation and there is no alternative for Hindus to establish a  Hindu Nation in Bharat to change this situation. It is now established that Congress Govt. is trampling sentiments of Hindus only to appease Muslims. Today, there is ban on ‘aarti’, ban on ringing bells in temple; tomorrow, these Hindu-hater rulers of Congress will issue a ‘fatwa’ that Hindus should adopt Islam; cows will be slaughtered in front of Hindu temples; Hindu women folk will be enjoyed by them by their choice; Hindus will be considered as  ‘Jimmi’ or otherwise to be slit on neck as being Kaffir and a Muslimstan will be established in India as Pakistan.  How long are Hindus going to tolerate such Congress rulers with Jehadi force, who are making them experience how living in Pakistan would be. Now at least Hindus should unite and undertake a strong agitation, in a lawful manner, against those imposing curb on their religious rights and save Hindu  Existence in India i.e. Bharat!

Read the full story in HJS.

—————————————-

Rights of Ringing Bell in Temple Restored at last through an angry Hindu agitation…… Read the latest report above.


49 Responses to “Ringing Bell in Temple stopped by Muslims in India. Muslims are snatching every right from Hindus in Muslim majority areas in India.”

  1. ARYA KHALSA said

    भाईचारे के नाम पे इस्लामीकरण कैसे बर्दाश्त है तुमको???…उनकी कानफोडू अज़ान तुमको सुरीली लगती है और इन मुल्लो को तुम्हारी मंदिर की घंटियाँ **शैतान की आवाज़ ** लगती है…..इतना अंधापन सेकुलरवाद का!!!!!

    क्यों हम हमेशा अपना बचाव करते है???…क्या हमारे महान , सर्वाधिक प्राचीन धर्म में अधर्म पे आक्रमण करके उसको जड़ से समाप्त करना नहीं सिखाया गया???…क्यों केवल अपने घर लुटने का इंतज़ार कर रहे हो???

    Raj Singh Arya.

    • rakesh said

      sabhi hinduo ko ek hona chahiye…..sale sab unity main nahi rehte na isliye ye prob. aa rahi hai.

      • ANANT.J.CHAMPANERI said

        RIGHT FROM THE DAYS OF MAHA RANA PRATAP/SHIVAJI/GURU GOBIND SINGHJI AND THE REST, HINDUS HAVE NEVER STUCK TOGETHER. INSTEAD JUST BEING JELOUS (SORRY SPELLING ERROR) OF EACH OTHER AND TRYING TO PUT EACH OTHER DOWN.

      • Harry K~ said

        Brothers and sisters lets unite and stop blaming for each other, about time we unite and fight for justice for a divine right our country has been a subject to attack right from the Mughals to the British and finally amongst our selves have we forgotten Guru Nanak, Ghandi, Shubashji, Shastriji, we need to make a stand and get rid of this foreigner Sonia and the rest of the family so that Indian politics can breath air of real freedom Jai Bharat Mata

  2. Rajat said

    Here in Bangladesh We can not ring the bells of Temple during Their Azan or else our temples are Vandalised.

    I feel You Indian Hindus are heading towards the same destination.

  3. इस मूढ़मति के चलते सनातन धर्म किताबों में ही सिमट कर रह जायेगा.

  4. madhu said

    How can you allow this to happen in India? India is your country – hindu country and you still allow this to happen. What should be banned is the Azaan in India. In the western countries, muslims are not allowed to broadcast the Azaan over loudspeakers and yet they reach the mosque in time for prayers so I do not understand how you can allow the Azaan on loudspeakers in the whole of India. India is not a muslim country. That is the first thing you must do.

    Next, rewrite the constitution of India as it states that all religions in India will be treated as equal. Well Islam has come to kill all religions and make this an islamic world. So how can we hindus be equal to muslims who are here to kill us no matter what and this is how they are killing us.

    Inspite of several negations, Abdul Kalam was made President when he is a human rights violator. He believes in the Koran and the Koran states all idolators which includes hindus and christians too, have to be killed to submit the whole world to Allah. India thinks Abdul Kalam is a great person. So does the rest of the world. He is still in the news. But he is a human rights violator because he believes in the teachings of the Koran and is a killer of your mind, not your body. He is a criminal just like all the muslims of the world as they believe in killing us so how can you hold him in such high esteem?

    But it is your fault.

    Madhu Gohil.

    Scarborough, Ontario, Canada.

  5. Sunil Mittal said

    anyay ka muh tod jabab denge. hum sab hindu sath hai. jai gomata.jai sri ram jai bharat mata jai hindusthan.

  6. sadhu Prof. V. said

    Self-respecting Hindus all over the country should rise up and stand together to protest against this atrocity. If the Andhra Government would not withdraw the order banning the ringing of temple bell and Hindu religious procession, Hindus in other parts of the country should forcefully stop shouting of Namaz in loudspeakers from all mosques, and the Tazia processions.
    –Sadhu Professor Rangarajan, Sri Bharatamata Mandir, Bangalore.

    • Satheesh said

      Dear Sadhuji ,
      You said it .. Absolutely right ..
      Secularism should not be a oneway traffic only …

      I strongly condemn the foolish act of Govt. of Andhra …

      Regards

      Deepak

  7. [...] Read the full story in: http://hinduexistence.wordpress.com/2012/01/28/ringing-bell-in-temple-stopped-by-muslims-in-india-mu… [...]

  8. vinod said

    Ahe Desdrohiyom ko Bharathase jalsejel baharkare….

  9. JFI, this is the answers we gave to the ban imposed by Govt of AP(in Hyderabad). stop cribbing and start acting. And we do have law, which we will eventually go to incase, MIM and the Islamic organisations in Hyderabad have a problem. Jai Shree Ram! May Bhagya Lakshmi Bless everyone!

  10. The Hindu organizations should go on a March to defy the ban. It should also challenge it in the court.
    Protests should be sent to the sleeping PM and to the papal nuncio Sonia.

  11. Hindu said

    Muslims have no right!!! Hindus never Restricted Muslims from their religious announcements that are speakerphoned 5 times a day! India consists on Hindus, Muslims, sikhs, and Christians-no one’s belief should be surpressed!!!! Muslims have no right to take away other religions from practising their faiths!

  12. cvrao said

    We are looking at the ‘end demands’. But we must first be lrt known why the demand made and what has ACTUALLY irated that community with all peevishness and ignominy of babbing “POOJAS” enmasse.

    Apart from all other unbecoming comments, I insist that it must have been implemented with a GREAT DESIRE of keeping PEACE in that LOCALITY ONLY.

    It must be not only to one religion but it should be for all religions in that LOCALITY to EVINCE PEACE & HEALTHY ATMOSPHERE.

  13. Hindu said

    Stop loud speaker Muslim prayers in Hindu Area.
    Start Ganpatti Bapa moraiya against them.

  14. hvprasad said

    OUTRAGEOUS MURDER OF HINDUISM BY THE COMMUNAL(SECULAR)GOVT. OF SONIA MADAM G, THE QUEEN OF SCAMS OF 2G, 3G, RAUL G, CHIDU G, RAJA G, KALMADI G AND SO ON……

    DEMOCRATIC INDIAN PEOPLE WILL DRIVE AWAY G IN NEXT ELECTION.

    LITTLE WAIT MADAM G.

    h v prasad.

  15. janardhan said

    just blaming the other community and the govt is of no use.

    create a hindu vote bank

    first define hindu. demarkate some common public ritual to collect right thinking hindu minds.

    just find out what is dividing hindu vote bank.

    hindu majorit in india is a myth. which sect of hinduism is in majority. how much vote they controle.

    formulate a common civil code.

    let everybody live in india and mind there own business.

    or shall we adopt a communist approach ?

    hindus are weak. some sects are strong. the strong ones should take the weak along to build a majority vote bank. then nobody will rise a finger on us.

    Dr. Janardhan

    • Ajay N. suchak said

      I had a friend as your name in St. Pauls high School in Hyderguda Hyderabad. His name as i remember is Janardhan Reddy. Please reply if you are the same person . I would love to communicate and be in contact with my old classmates who have a very special place in my heart.

      Ajay N. suchak.

  16. hvprasad said

    WONDERFUL COMMENT/REPLY.DRHVPRASAD

  17. krishna said

    If the Muslims can be so arrogant as to behave like babarians imposing their constipated islamic views in our country, it is time we took up arms to teach those Muslim a lessons. Do you know how many Hindu girls have been abducted and kidnapped and converted into Islam in Pakistan? DO we Hindus do that though we are the majority? Islam is a barbaric religion that has long overstayed in this civilised world. If the Hindus in Indian don’t get militant, there will be no temples for Hindus to go to, sooner or later. Teach that barbaric Muslim MP a lesson. That the Hindus must do for their own existence.

  18. Jai Singh said

    I don’t have any thing against any religion but, it is sad to see India suffer so much. If the Muslims stop the Hindus from practising their religion, then the Hindus should stop them from practising their religion also. I know we can stop the bells from ringing and still reach out to God but can they stop shouting out loud the name of God and reach out to Allah? I don’t think these rules were made from Allah it is the cunning Muslims now. They are converting all race and religion into Muslims.

  19. Raks said

    Congress has compromised India’s North East like no other government would+shoud have done. Any guesses for the surprise Congress pulled off in Rajasthan ? The latest buzz apart from the BJP infighting in Rajasthan is that Bangladeshi Muslim voters were major contributers :)
There are 3-4 crore adults alone. They are enough to give Congress the much needed majority they need.
For those ranting about gender ratio, let me tell you, the average muslim marries at least thrice or four times in his life time. Same applies to women. Each couple begets 2 babies followed by a talaaq talaaq talaaq. That adds up to an average of 8 babies per man and 6-8 babies per woman. Of course, the women remarry too.
I live right next to a Moslem baby factory. Very rich, educated, well to do family. Its a joint family of course, 4 sisters, 2 sisters have 3 babies each, one has four and one has five. The latest addition to the family was barely a fortnight ago. The reason muslims are procreating insanely is to create a population large enough to give them the power of sheer numbers which will also give them the power to negotiate.


    As for those claiming Muslims could have converted everybody during the 800 years they ruled. Noway. We fought them. We left them bloody. We ambushed them. We put the fear of the devil in them. They only controlled the kingdom. Not the countryside. 800 years of bloody wars..which weren’t documented. I will pen a short novella about my clan some day, till then, sit in cuckoo’s land thinking moslems are forgiving when in majority or when in power. Noway. Never.

    Sadly, BJP used Hindutwa as a political platform and degraded it more instead of preaching Hindutwa to the masses.
Some airhead moslem bloggers claim Hindutwa wasn’t a force to reckon with till Door-Darshan started airing Ramayan. Its time for VHP, RSS to hit the streets. Forget Dilli and Raj Gaddi for a while. Go from street to street preaching about Hinduism and Sanatan Dharma, do street plays. We are more divided today than we were 800 years ago. Its every Hindu’s responsibility to hold this freedom dear and remember his/her fore fathers who fought the Moghuls and sacrificed their lives so that we can hold our heads up high with a sense of pride and dignity and say we were a clan of warriors who chose death to converting to Evil Islam which only needs people in its ranks to kill Kafirs. We don’t need to know the truth of Islam or X’tianity. Hindiusm is truth. Hinduism is the way of life.

    Serves the Hindu’s in India right…..Carry on sitting on your fat jalebi arse’s watching Salman khan and the rest of the Muslim bollywood idiots prance about.

    India is screwed for Hindus all long as Hindus believe that Muslims are their brothers! As Krishna said (post February 12, 2012 at 9:35 pm) Hindus need to get together regardless of caste or class and get a voice!

    But sadly this will not happen….just look at how many hindu’s on this site have blogged on this issue! 18? and some are not even from India. Hindus in India are more concerned with what’s for dinner!

    Rajesh Ruparelia.
    Hyderabad, A.P., Bharat.

  20. NEHA GUPTA said

    MUSLIM SALO KO INDIA SE BHAGAON…, KHILA PILA KE TO BADA KA DIYA. SAMMAN BHI KIYA. LEKIN DUSHMANI ABHI TAK GAYEE NAHI. YE SALE BAHUT UD RAHE HAI. RAHNA CAHATE TO PREM BADA (LEKIN HINDU LADKIYON PAR NAZAR MAAT DAL)…. DUSHMOBI CHOD DE……

    Neha Gupta,
    Mangaluru, Karnataka, Bharat.

  21. sanjay rai said

    Manu TripathiNov 12, 2011 02:30 AM
    सोनिया ने अहमद पटेल को अपना राजनैतिक सचिव बनाया है जो मुस्लमान है और कट्टर सोच वाले मुस्लमान है ..
    सोनिया ने मनमोहन सिंह कि मर्जी के खिलाफ पीजे थोमस को cvc बनाया जो ईसाई है ..और सिर्फ सोनिया की पसंद से cvc बने .जिसके लिए भारतीय इतिहास में पहली बार किसी प्रधानमंत्री को माफ़ी मागनी पड़ी ..
    सोनिया जी ने अपनी एकमात्र पुत्री प्रियंका गाँधी की शादी एक ईसाई राबर्ट बढेरा से की ..
    अजित जोगी को छातिसगड़ का मुख्यमंत्री सिर्फ उनके ईसाई होने के कारण बनाया गया जबकि उस वक़्त कई कांग्रेसी नेता दबी जबान से इसका विरोध कर रहे थे .. अजित जोगी इतने काबिल मुख्यमंत्री साबित हुए की छातिसगड़ में कांग्रेस का नामोनिशान मिटा दिया ..
    अजित जोगी पर दिसम्बर 2003 से बिधायको को खरीदने का केस सीबीआई ने केस दर्ज किया है . सीबीआई ने पैसे के स्रोत को भी ढूड लिया तथा टेलीफोन पर अजित जोगी की आवाज की फोरेंसिक लैब ने प्रमडित किया इतने सुबूतो के बावजूद सीबीआई ने आजतक सोनिया के इशारे पर चार्जशीट फाइल नहीं किया ..
    जस्टिस k g balakrisnan को 3 जजों की बरिस्टता को दरकिनार करके सुप्रीम कोर्ट का चीफ जस्टिस बनाया गया जो की एक परिवर्तित ईसाई थे …
    राजशेखर रेड्डी को आँध्रप्रदेश का मुख्यमंत्री बनने में उनका ईसाई होना और आँध्रप्रदेश में ईसाइयत को फ़ैलाने में उनका योगदान ही काम आया मैडम सोनिया ने उनको भी तमाम नेताओ को दरकिनार करने मुख्यमंत्री बना दिया ..
    मधु कोड़ा भी निर्दल होते हुए अपने ईसाई होने के कारण कांग्रेस के समर्थन से झारखण्ड के मुख्यमंत्री बने …
    अभी केरल विधान सभा के चुनाव में कांग्रेस ने 92 % टिकट ईसाई और मुस्लिमो को दिया है
    जिस कांग्रेस में सोनिया की मर्जी के बिना कोई पे …….ब तक नहीं कर सकता वही दिग्विजय सिंह किसके इशारे पर 10 सालो से हिन्दू बिरोधी बयानबाजी करते है ये हम सब अछि तरह जानते है …
    हिन्दुओ की आवाज़ बन रही बैबसाइटो को बलाकॅ कर दिया जाता है !
    यदि हमारा देश धर्मं निरपेच्छ है तो पोप जान पॉल के निधन पर तीन दिन का राष्ट्रीय शोक क्यों और किसके इशारे पर घोषित किया गया ?
    सिर्फ यह बताने और संदेश देने के लिए की भारत मे सब आपके (वेटिकन) इशारे पर ही हो रहा है जल्दी भारत ईसाई देश होगा !
    आप सबको याद होगा श्रीमति प्रतिभा पाटिल जी राष्ट्रपति कैसे चुनी गईं लेकिन एंटोनियो [सोनिया गाँधी ] को उन पर भी भरोसा नहीं इसलिए उनका निजी सचिव भी ईसाई बनवाया। समझने वालों को संदेश बिल्कुल साफ है कि या तो ईसाई बनो या गुलाम नहीं तो कांग्रेस के कोर ग्रुप या सरकार के मालदार पदों को भूल जाओ ।
    हिमाचल कांग्रेस में ताकतवर हिन्दूनेता राजा वीरभद्र सिंह जी की जगह ईसाई विद्या सटोक्स को विपक्ष का नेता बनाया गया .. क्योंकि राजा वीरभद्र सिंह जी छल कपट व आर्थिक लालच से करवाए जा रहे धर्मांतरण के विरूद्ध थे । ऊपर से हिन्दुओं के वापिस अपने हिन्दू धर्म में लौटने के घर वापसी अभियान की सफलता से धर्मांतरण के दलाल देशी विदेशी ईसाई मिशनरी छटपटाए हुए थे।छतीसगढ और आंध्रप्रदेश में हिन्दुओं की संख्या 90% से अधिक होने के बावजूद एंटोनिया नेईसाई मुख्यमन्त्री बनवाए ।

    आंध्रप्रदेश में यह ईसाई मुख्यमन्त्री मुसलमानों को संविधान के विरूद्ध जाकर आरक्षण देता है ।

    प्रणवमुखर्जी को रक्षामन्त्री के पद से हटवाकर ईसाई एन्टनी को रक्षामन्त्री बनवाया ।

    (Copied from a blog)

  22. Ramesh said

    Yes We all Hindus need to get together regardless of caste or class and get a voice!
    How can we allow gave ban imposed by Govt of AP(in Hyderabad).
    Useless and Anti-Hindu Congress Govt in AP

    • cvrao said

      Dear Sir,

      INDIA is a 60 (+) year OLD SOVEREIGN REPUBLIC COUNTRY.
      Let us go to GRASS ROOTS of this UNDESIRABLE agitation of mind & activity since NO SUCH REPUBLIC of the INTELLIGENT INDIANS should have PSIMPLY PASSED such FATWA OF 450 YEAR OLD FATWA of A RELIGIOUS & YET RESPECTLESS KING AURANGJEB!!!??????????

  23. suni said

    just by saying we are hindus, this should be done or that should be done… nothing will change. is there anybody who really cared for it and filed a case against it??? or we are simply waiting that sombody will come save us from this evils??? come on bros wake up! lets unite and make an organisation so that we can get rid from this bloody islamic terrorists..

    • MANIK said

      MY BRO I AM INTERESTED IN MAKING HINDU ORGANISATION AGAINST MUSLIMS, I NEED YOUR ASSISTANSE, PLZ GIVE ME YOUR CONTACT……JAI HIND

  24. Swati said

    I think it is more our political leaders and our government is to be blamed for all that is happening in HINDUSTAN. India belongs to Hindus and we all Hindus should unite and get rid of all Muslims who wants to create problems in our country. Why Pakistan doesn’t allow to practice Hinduism as we allow Muslims to practice their religion in India. Honestly Deshvasio the solution to this whole matter is to get rid of those Hungry politicians who are encouraging these Muslims MLA’S so they can get their VOTES. It is so shameful that in our 1.2billion population, PEOPLE of INDiA can not find decent politicians who cares for their country and not for themselves.

  25. N B Soni said

    When is this government going to wake up??? Are they also going to ban the big loud speakers which hail “Allah O Akber” as well as they are also annoying and disturb our peace and they are louder than the bells.
    Get real and Hindus – wake up and stand up for your rights in your own country

  26. इस्लाम समर्थक हिन्दू आचार्य ?

    आजकल प्रचार का जमाना है .और लोग अपना प्रचार करने के लिए तरह तरह के हथकंडे अपनाते रहते हैं .इसीलिए कुछ मुस्लिम ब्लोगरों ने इस्लाम का प्रचार करने के लिए यही तरकीब अपना रखी है .सब जानते हैं कि अधिकांश हिन्दू संगठन और संस्थाए भी दोगली विचारधारा रखती हैं .और कुछ तथाकथित स्यंभू आचार्य ,और पंडित अपना धर्म बेच चुके है ,और इस्लाम का प्रचार कर रहे है .कुछ दिनों पूर्व ” सनातन धर्म इस्लाम ” (http://sanatan-dharm-islam.blogspot.com/)के नाम से एक ब्लॉग नजर में आया ,जिसमे किसी अहमद पंडित और किसी लक्ष्मी शंकर आचार्य के साथ कुछ अन्य हिन्दू लेखकों ने मिलकरयह सिद्ध करने का प्रयास किया है ,कि इस्लाम एक उदार धर्म है ,इसमें जबरदस्ती नहीं है .यह हरेक व्यक्ति को अपना धर्म पालन करने की अनुमति देता है .इस्लाम की नजर में सभी मनुष्य समान हैं .इस्लाम लोगों में सद्भावना फैलाना चाहता है .आदि ,इन्हीं बातों प्रमाणित करने के लिए इस ब्लॉग में कुरान शरीफ की कुछ आयतें और विडिओ भी दिए गए है .यहाँ पर ब्लॉग में किये गए दावों की दुर्भावना रहित समीक्षा दी जा रही है ,ताकि उन हिन्दू विद्वानों को सटीक उत्तर दिया जा सके .और सत्यासत्य का निर्णय हो सके .देखिये –
    1 – इस्लाम का अर्थ शांति नहीं है .
    अभी तक लोग इसी भ्रम में पड़े हुए हैं ,कि इस्लाम का अर्थ शांति है .और इसलिए इस्लाम शांति का धर्म है .लेकिन इस्लाम का वास्तविक अर्थ शांति नहीं बल्कि समर्पण है .”Islam” does not mean “peace” but “submission”जैसा कि कहा जाता है (“السلام” ولكن “تقديم”استسلاما )इस्लाम शब्द अरबी के तीन अक्षरों (root sīn-lām-mīm (SLM [ س ل م ) से बना है .और कुरान में कई जगह इस्लाम का अर्थ समर्पण ही किया गया है ,सूरा तौबा 9 :29 में इसका अर्थ-
    To surrender -اسلام=Submission बताया है .इसी तरह सूरा आले इमरान 3 :83 में इसका अर्थ अल्लाह का धर्म और सूरा आले इमरान 3 :19 में भी वही अर्थ”islam is surrender to allah ‘s will استسلاما=To surrender ” दिया है .इस्लाम का अर्थ शांति फैलाना कदापि नहीं है .इस शब्द का प्रयोग लोगों को धमकी देकर आत्मसमर्पण (surrender ) करने के लिए किया जाता रहा है ,जो इन हदीसों से सिद्ध होता है .

    “रसूल ने यहूदियों से कहा कि यह सारी जमीन मुसलमानों की है .इसलिए तुम इसे खाली कर दो .और इस्लाम कबूल करो .और खुद को अल्लाह के रसूल के सामने समर्पित कर दो ” बुखारी -जिल्द 9 किताब 92 हदीस 447
    “एक औरत ने रसूल से पूछा कि इस्लाम क्या है ,तो रसूल ने कहा ,सिर्फ अल्लाह की इबादत करना , रोजा रखना ,जकात देना और खुद को अल्लाह की मर्जी के हवाले कर देना “बुखारी -जिल्द 1 किताब 1 हदीस 47
    “रसूल ने Byzantine ईसाई शाशक “हरकल Harcaleius को सन्देश भेजा ,जिसमे कहा कि मैं अल्लाह का रसूल मुहम्मद तुम्हें चेतावनी देता हूँ ,कि अगर तुम अपनी जान बचाना चाहते हो ,तो समर्पण कर दो .और इस्लाम स्वीकार कर लो “बुखारी -जिल्द 4 किताब 52 हदीस 191
    वह इस्लाम भक्त हिन्दू आचार्य बताएं कि क्या इस्लाम का अर्थ समर्पण करना नहीं है ? और इस्लाम के जन्म से लेकर मुसलमान इसी तरह से विश्व में शांति (अशांति ) नहीं फैला रहे हैं ?
    2 -इस्लाम में जबरदस्ती नहीं है
    इन इस्लाम परस्त पंडितों ने जकारिया नायक के सामने मुस्लिमों को खुश करने के लिए यह कह दिया कि इस्लाम में किसी प्रकार की जबरदस्ती नहीं है ,और सबको अपना धर्म पालने की आजादी है .इसके लिए इन लोगों ने कुरान की इन आयतों का हवाला दिया है –
    अ -“दीन (इस्लाम ( में कोई जबरदस्ती नहीं है ” सूरा -बकरा 2 :256
    ब-“तुम्हारे लिए तुम्हारा दीन और हमारे लिए हमारा दीन “सूरा -काफिरून 109 :6
    बहुत कम लोग यह जानते हैं कि कुरान की सूरतें और आयते घटनाक्रम के अनुसार ( according revelation ) नहीं है .इसलिए इनका सही तात्पर्य और अर्थ समझने के लिए हदीसों का सहारा लेना जरुरी है .पहली आयत 2 :256 यहूदियों से सम्बंधित है .हदीस में कहा है ,
    “अब्दुल्ला इब्न अब्बास ने कहा कि इस्लाम से पहले जिन औरतों के बच्चे नहीं होते थे ,या बार बार मर जाते थे ,वह यहूदियों के मंदिर में जाकर रब्बी के सामने यह मन्नत मांगती थीं ,कि अगर मुझे बच्चा होगा ,या मेरी संतान जीवित रहेगी तो उसे मैं यहूदी बनाकर तुम्हारे हवाले कर दूंगी . मक्का में ऐसे बहुत से बच्चे यहूदियों के पास थे . जब इस्लाम आया तो रसूल ने उन सभी बच्चों को यहूदियों से मुक्त कराया और कहा कि ” दीन ( मान्यता ) में कोई जबरदस्ती नहीं है ”
    अबू दाउद-किताब 14 हदीस 2676
    इसी तरह दूसरी आयत 109 :6 का जवाब उसी सूरा में मिल जाता है ,जिसमे कहा है कि “हे काफिरों मैं उसकी इबादत नहीं करूँगा ,तुम जिसकी इबादत करते हो
    ” सूरा -काफिरून 109 :4 .इसी बात को और स्पष्ट करने के लिए कुरान की इस आयत को पढ़िए जो कहती है कि,
    “और जो लोग इस सच्चे दीन (इस्लाम )को अपना दीन नहीं मानते ,तुम उनसे लड़ो ,यहाँ तक वह अपमानित और विवश होकर जजिया न देने लगें ”
    सूरा- तौबा 9 :29
    अब कोई कैसे मान सकता है ,कि इस्लाम बलपूर्वक नहीं फैलाया गया ,और सबको अपने धर्मों के पालन करने की अनुमति देता है ?
    3 -इस्लाम वैश्विक भाईचारा चाहता है

    वास्तव में इस्लाम ” वैश्विकबंधुत्व “الأخوة العالمية” universal fraternity” नहीं बल्कि ” मुस्लिम भाईचारे “” الاخوان المسلمين” muslim brotherhood की वकालत करता है . जो इन आयतों से स्पष्ट हो जाती है ,जो कहती हैं .
    ” ईमान वाले (मुस्लिम ) तो भाई भाई हैं “सूरा -अल हुजुरात 49 :10
    यही बात इन हदीसों में में साफ तौर से कही गयी है ,कि मुसलमान दुसरे धर्म वालों के भाई या मित्र नहीं हो सकते .हदीस में है ,
    “रसूल ने कहा कि इमान वालों को सिर्फ इमान वालों से ही दोस्ती करना चाहिए “अबू दाउद -किताब 41 हदीस 4815 और 4832
    “रसूल ने कहा हे ईमान वालो तुम मेरे शत्रुओं ( गैर मुस्लिम ) को अपना भाई या दोस्त नहीं समझो ” बुखारी -किताब 59 हदीस 572
    कुरान में गैर मुस्लिमों से दोस्ती न करने का कारण भी दे दिया है और रसूल के स्वभाव के बारे में कहा है कि ,
    “मुहम्मद अल्लाह के ऐसे रसूल हैं ,जो काफिरों के प्रति कठोर और अपने लोगों ( मुसलमानों ) के प्रति अत्यंत दयालु हैं “सूरा -अल फतह 48 :29
    सब जानते हैं कि मुसलमान रसूल का अनुकरण करते हैं ,और जब रसूल ही गैर मुस्लिमों से दोस्ती और भाईचारे को बुरा बताते हों ,तो मुसलमानों क्या मजाल जो हिन्दुओं से दोस्ती कर सकें .यही कारण था कि जब केजरीवाल मौलाना अरशद मदनी के पास दोस्ती के लिए गए तो उनको भगा दिया गया .और अन्ना का आन्दोलन फेल हो गया .( जागरण 28 दिसंबर 2011 )याद रखिये गाँधी ने भी यही किया था .
    4-विधर्मी भटके लोग और जानवर हैं
    आप सोच रहे होंगे कि इस्लाम गैर मुस्लिमों से मित्रता करने का विरोधी क्यों है .क्योंकि इस्लाम कि नजर में सभी गैर मुस्लिम ,जैसे यहूदी ,ईसाई और हिन्दू भटके हुए लोग और कुत्ते ,बन्दर ,सूअर और चूहे की तरह निकृष्ट प्राणी है .यह कुरान की इन आयातों और हदीसों से सिद्ध होता है .जो कहती हैं कि-
    “क्या कभी कोई अँधा और आँखों वाला व्यक्ति बराबर हो सकता है “सूरा -रअद 13 :16
    ” निश्चय ही जमीन पर चलने वाले सभी जीवों में अल्लाह कि नजर सबसे निकृष्ट जीव वह लोग हैं जो इस्लाम नहीं लाते”सूरा-अनफ़ाल 8 :55
    “जो इस्लाम को छोड़कर अपनी ही इच्छा पर चलते हैं ,उनकी मिसाल कुते की तरह है .जो अपनी इच्छा पर चलता है “सूरा-आराफ 7 :176
    “जब वह हमारी बात ( इस्लाम लाओ ) छोड़कर ढिढाई से वही पुराना काम करने लगे ,तो हमने (अल्लाह ) कहा जाओ तुम धिक्कारे हुए बन्दर बन जाओ ”
    सूरा -आराफ़ 7 :166
    “और जब उन लोगों (यहूदी ) हमारे आदेश को नहीं माना तो हमने कहा तुम बन्दर बन जाओ “सूरा -बकरा 2 :65
    “जिन्होंने अल्लाह के आलावा किसी और की इबादत की ,तो उन पर अल्लाह का प्रकोप हुआ .जिस से उन में से बन्दर और सूअर बना दिए गए .
    सूरा -अल मायदा 5 :60 .यही बातें इन हदीसों में दी गयी है –
    ” अबू सईद ने कहा कि रसूल ने कहा “सभी यहूदी और ईसाई भटके हुए लोग है और जानवरों से बदतर है .यह एक दिन गर्त में जा गिरेंगे ”
    बुखारी -जिल्द 4 किताब 56 हदीस 662
    ” अबू हुरैरा ने कहा कि रसूल ने कहा यहूदी चूहों की तरह है ,जब इनको बकरी का दूध दिया जाता है ,तो पी लेते है .लेकिन जब ऊंटनी का दूध दिया जाता है तो इनको कोई स्वाद नहीं आता.यानि तौरेत पढ़ लेते हैं लेकिन कुरान से इकार करते है “सही मुस्लिम किताब 42 हदीस 7135 यही कारन है कि मुसलमान हिन्दू ,ईसाई और यहूदी जैसे जानवरों से दोस्ती नहीं करते हैं .
    5-अल्लाह भटकाता रहे ,और
    लगता है अल्लाह ने जिस दिन कुरान उतारी थी ,उसी दिन से पृथ्वी से काफिरों ( गैर मुस्लिम ) के सफाया की योजना बना रखी थी .कि वह उनको गुमराह करके उनसे गुनाह ,अपराध कराता रहे .फिर जहाँ भी इस्लामी हुकूमत हो जाये वहां जिहादी किसी न किसी बहाने उनको क़त्ल करते रहें .यह बात कुरान कि इन आयतों से स्पष्ट हो जाता है –
    ” यदि अल्लाह चाहता तो सबको एक गिरोह बना देता ( ताकि वह सत्कर्म करते ) लेकिन वह जिसको चाहे गुमराही में डाल देता है ”
    सूरा-अन नह्ल 16 :93
    ” वह लोग बिच में ही डावांडोल रहते हैं ,न इधर के और न उधर के . जिसको चाहे गुमराही में डाल देता है,और जिसे खुद अल्लाह भटका दे उनके लिए कोई रास्ता नहीं रहता “सूरा -अन निसा 4 :143
    “अल्लाह जिसको चाहे उसको भटका देता है ,और जिसको चाहे सन्मार्ग दिखा देता है “सूरा-अल मुदस्सिर 74 :31
    “अल्लाह ने जानबूझ कर उनको सन्मार्ग से भटका दिया है ,और उनके कानों और दिलों पर ठप्पा लगा दिया है “सूरा -अल जसिया 45 :23
    अल्लाह के इस काम में शैतान भी मदद करते रहते हैं .जो इस आयत से पता चलता है .
    “क्या तुम नहीं जानते कि हमने इन काफिरों पर अपने शैतानों को छोड़ रक्खा है ,जो इनको गुमराह करते रहते हैं “सूरा -मरियम 19 :83
    काश वह हिन्दू पंडित जकारिया नायक से पूछते कि ,जब खुद अल्लाह ही शैतान के साथ मिलकर लोगों को गुमराह कराता रहता है ,तो असली अपराधी अल्लाह क्यों नहीं है .फिर गैर मुस्लिमों पर हमले क्यों किये जाते हैं ?जैसा कि आगे बताया गया है –
    6-जिहादी मारते रहें
    क्या इसी को इस्लामी कानून कहते हैं कि ,करे अल्लाह और भरें हिन्दू या गैर मुस्लिम .फिर भी जिहादी अल्लाह की जगह गैर मुस्लिमों पर जिहाद करते रहते हैं .जैसा कि कुरान की इन आयतों में लिखा है ,
    “हे ईमान वालो तुम उन सभी काफिरों से लड़ते रहो जो तुम्हारे आस पास रहते हों “सूरा -तौबा 9 :123
    “जो इमान वाले हैं ,वह हमेशा अल्लाह के लिए लड़ते रहते है “सूरा -निसा 4 :76
    “जहाँ तक हो सके तुम हमेशा सेना और शक्ति तैयार रखो ,और काफिरों को भयभीत करते रहो “सूरा -अनफाल 8 :60
    ” हे नबी तुम काफिरों और मुनाफिकों के साथ सदा जिहाद करो और उन पर सख्ती करते रहो “सूरा -अत तहरिम 66 :9 .और सूरा तौबा 9 :73
    “तुम उनसे इतना लड़ो की वह बाकि न रहें ,और सभी धर्म इस्लाम हो जाएँ “सूरा -अन्फाल 8 :39 और सूरा -बकरा 2 :193
    “हे नबी तुम ईमान वालों को हमेशा लड़ाई करने पर उकसाते रहो “सूरा -अन्फाल 8 :63

    अब पाठकों से विनम्र नवेदन है कि वह पहले ऊपर दिए गए “सनातन धर्म इस्लाम “में दिए गए हिन्दू पंडितों के तर्कों को पढ़े ,फिर निष्पक्ष होकर कुरान की दी गयी आयतों को पढ़ें . फिर अपना निर्णय टिपण्णी के रूप में देने की कृपा करें .अथवा ,प्रथम अनुच्छेद में जिस ब्लॉग का हवाला दिया गया है ,उसमे उन पंडितों और आचार्यों के पते दिए गए हैं ,जो इस्लाम के भक्त है .आप उन से सवाल कर सकते हैं .

    http://www.thereligionofpeace.com/Pages/Quran-Hate.htm

  27. इस्लाम का भविष्य क्या होगा ?
    मुसलमान अक्सर अपनी बढ़ती जनसंख्या की डींगें मारते रहते है .और घमंड से कहते हैं कि आज तो हमारे 53 देश हैं .आगे चलकर इनकी संख्या और बढ़ेगी .इस्लाम दुनिया भर में फ़ैल जायेगा .विश्व ने जितने भी धर्म स्थापक हुए हैं ,सभी ने अपने मत के बढ़ने की कामना की है .लेकिन मुहम्मद एकमात्र व्यक्ति था जिसने इस्लाम के विभाजन ,तुकडे हो जाने और सिमट जाने की पहिले से ही भविष्यवाणी कर दी थी .यह बात सभी प्रमाणिक हदीसों में मौजूद है .

    यदि कोई इन हदीसों को झूठ कहता है ,तो उसे मुहम्मद को झूठ साबित करना पड़ेगा .क्योंकि यह इस्लाम के भविष्य के बारे में है .सभी जानते हैं कि किसी आदर्श ,या नैतिकता के आधार पर नहीं बल्कि तलवार के जोर पर और आतंक से फैला है .इस्लाम कि बुनियाद खून से भरी है .और कमजोर है .मुहम्मद यह जानता था .कुरान में साफ लिखा है –

    1-इस्लाम की बुनियाद कमजोर है
    “कुछ ऐसे मुसलमान हैं ,जिन्होंने मस्जिदें इस लिए बनायीं है ,कि लोगों को नुकसान पहुंचाएं ,और मस्जिदों को कुफ्र करने वालों के लिए घात लगाने और छुपाने का स्थान बनाएं .यह ऐसे लोग हैं ,जिन्होंने अपनी ईमारत (इस्लाम )की बुनियाद किसी खाई के खोखले कगार पर बनायीं है ,जो जल्द ही गिरने के करीब है .फिर जल्द ही यह लोग जहन्नम की आग में गिर जायेंगे “सूरा -अत तौबा 9 :108 और 109

    2 -इस्लाम से पहिले विश्व में शांति थी .यद्यपि इस्लाम से पूर्व भी अरब आपस में मारकाट किया करते थे ,लेकिन जब वह मुसलमान बन गए तो और भी हिंसक और उग्र बन गए .जैसे जैसे उनकी संख्या बढ़ती गयी उनका आपसी मनमुटाव और विवाद भी बढ़ाते गए .वे सिर्फ जिहाद में मिलने वाले माल के लिए एकजुट हो जाते थे .फिर किसी न किसी बात पर फिर लड़ने लगते थे ,शिया सुनी विवाद इसका प्रमाण है .
    इसके बारे में मुहमद के दामाद हजरत अली ने अपने एक पत्र में मुआविया को जो लिखा है उसका अरबी के साथ हिंदी और अंगरेजी अनुवाद दिया जा रहा है –

    3 -हजरत अली का मुआविया को पत्र
    हजरत अली का यह पत्र संख्या 64 है उनकी किताब” नहजुल बलाग “में मौजूद है .

    http://www.imamalinet.net/EN/nahj/nahj.htm

    “यह बात बिलकुल सत्य है कि,इस्लाम से पहिले हम सब एक थे .और अरब में सबके साथ मिल कर शांति से रह रहे थे .तुमने (मुआविया )महसूस किया होगा कि ,जैसे ही इस्लाम का उदय हुआ ,लोगों में फूट और मनमुटाव बढ़ाते गए .इसका कारण यह है ,कि एक तरफ हम लोगों को शांति का सन्देश देते रहे ,और दूसरी तरफ तुम मुनाफिक(Hypocryt )ही बने रहे ,और इस्लाम के नाम पर पाखंड और मनमर्जी चलाते रहे.तुमने अपने पत्र में मुझे तल्हा और जुबैर की हत्या का आरोपी कहा है .मुझे उस पर कोई सफ़ाई देने की जरुरत नहीं है .लेकिन तुमने आयशा के साथ मिलकर मुझे मदीना से कूफा और बसरा जाने पर विवश कर दिया ,तुमने जो भी आरोप लगाये हैं ,निराधार है ,और मैं किसी से भी माफ़ी नहीं मांगूंगा ”
    मुआविया के पत्र का हजरत अली का मुआविया को जवाब -नहजुल बलाग -पत्र संख्या 64

    ومن كتاب له عليه السلام
    كتبه إلى معاوية، جواباً عن كتاب منه
    أَمَّا بَعْدُ، فَإِنَّا كُنَّا نَحْنُ وَأَنْتُمْ عَلَى مَا ذَكَرْتَ مِنَ الاَُْلْفَةِ وَالْجَمَاعَةِ، فَفَرَّقَ بيْنَنَا وَبَيْنَكُمْ أَمْسِ أَنَّا آمَنَّا وَكَفَرْتُمْ، وَالْيَوْمَ أَنَّا اسْتَقَمْنَا وَفُتِنْتُمْ، وَمَا أَسْلَمَ مُسْلِمُكُمْ إِلاَّ كَرْهاً وَبَعْدَ أَنْ كَانَ أَنْفُ الاِِْسْلاَمِكُلُّهُ لِرَسُولِ اللهِ صلى الله عليه وآله حرباً
    وَذَكَرْتَ أَنِّي قَتَلْتُ طَلْحَةَ وَالزُّبَيْرَ، وَشَرَّدْتُ بِعَائِشَةَ وَنَزَلْتُ بَيْنَ الْمِصْرَيْنِ وَذلِكَ أَمْرٌ غِبْتَ عَنْهُ، فَلاَ عَلَيْكَ، وَلاَ الْعُذْرُ فِيهِ إِلَيْكَ
    [ A reply to Mu'awiya's letter. ]
    It is correct as you say that in pre-Islamic days we were united and at peace with each other. But have you realized that dissensions and disunity between us started with the dawn of Islam. The reason was that we accepted and preached Islam and you remained heathen. The condition now is that we are faithful and staunch followers of Islam and you have revolted against it. Even your original acceptance was not sincere, it was simple hypocrisy. When you saw that all the big people of Arabia had embraced Islam and had gathered under the banner of the Holy Prophet (s) you also walked in (after the Fall of Makkah.)
    In your letter you have falsely accused me of killing Talha and Zubayr, driving Ummul Mu’minin Aisha from her home at Madina and choosing Kufa and Basra as my residence. Even if all that you say against me is correct you have nothing to do with them, you are not harmed by these incidents and I have not to apologize to you for any of them.
    4 -इस्लाम का विभाजन
    इस्लाम के पूर्व से ही अरब के लोग दूसरों को लूटने और आपसी शत्रुता के कारण लड़ते रहते थे .लेकिन मुसलमान बन जाने पर उनको लड़ने और हत्याएं करने के लिए धार्मिक आधार मिल गया .वह अक्सर अपने विरोधियों को मुशरिक ,मुनाफिक और काफ़िर तक कहने लगे और खुद को सच्चा मुसलमान बताने लगे .और अपने हरेक कुकर्मों को कुरान की किसी भी आयत या किसी भी हदीस का हवाला देकर जायज बताने लगे .धीमे धीमे सत्ता का विवाद धार्मिक रूप धारण करता गया .मुहम्मद की मौत के बाद ही यह विवाद इतना उग्र हो गया की मुसलमानों ने ही मुहम्मद के दामाद अली ,और उनके पुत्र हसन हुसैन को परिवार सहित क़त्ल कर दिया .उसके बाद ही इस्लाम के टुकडे होना शुरू हो गए .जिसके बारे में खुद मुहम्मद ने भविष्यवाणी की थी .-
    “अबू हुरैरा ने कहा कि,रसूल ने कहा था कि यहूदी और ईसाई तो 72 फिरकों में बँट जायेंगे ,लेकिन मेरी उम्मत 73 फिरकों में बँट जाएगी ,और सब आपस में युद्ध करेंगे “अबू दाऊद-जिल्द 3 किताब 40 हदीस 4579
    “अबू अमीर हौजानी ने कहा कि ,रसूल ने मुआविया बिन अबू सुफ़यान के सामने कहा कि ,अहले किताब (यहूदी ,ईसाई ) के 72 फिरके हो जायेंगे ,और मेरी उम्मत के 73 फिरके हो जायेंगे ..और उन में से 72 फिरके बर्बाद हो जायेंगे और जहन्नम में चले जायेंगे .सिर्फ एक ही फिरका बाकी रहेगा ,जो जन्नत में जायेगा “अबू दाऊद -जिल्द 3 किताब 40 हदीस 4580 .
    “अबू हुरैरा ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ,ईमान के 72 से अधिक टुकडे हो जायेंगे ,और मुसलमानों में ऐसी फूट पड़ जाएगी कि वे एक दुसरे कीहत्याएं करेंगे .”
    अबू दाऊद -जिल्द 3 किताब 40 हदीस 4744 .
    “अरफजः ने कहा कि मैं ने रसूल से सुना है ,कि इस्लाम में इतना बिगाड़ हो जायेगा कि ,मुसलमान एक दुसरे के दुश्मन बन जायेंगे ,और तलवार लेकर एक दुसरे को क़त्ल करेंगे “अबू दाऊद -जिल्द 3 किताब 40 हदीस 4153 .
    “सईदुल खुदरी और अनस बिन मालिक ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ,पाहिले तो मुसलमान इकट्ठे हो जायेंगे ,लेकिन जल्द ही उनमें फूट पड़ जाएगी .जो इतनी उग्र हो जाएगी कि वे जानवरों से बदतर बन जायेगे .फिर केवल वही कौम सुख से जिन्दा रह सकेगी जो इनको इन को ( नकली मुसलमानों )को क़त्ल कर देगी .फिर अनस ने रसूल से उस कौम की निशानी पूछी जो कामयाब होगी .तो रसुलने बताया कि,उस कौम के लोगों के सर मुंडे हुए होंगे .और वे पूरब से आयेंगे “अबू दाऊद-जिल्द 3 किताब 40 हदीस 4747 .
    5 -इस्लाम के प्रमुख फिरके
    आमतौर पर लोग मुसलमानों के दो ही फिरकों शिया और सुन्नी के बारे में ही सुनते रहते है ,लेकिन इनमे भी कई फिरके है .इसके आलावा कुछ ऐसे भी फिरके है ,जो इन दौनों से अलग है .इन सभी के विचारों और मान्यताओं में इतना विरोध है की यह एक दूसरे को काफ़िर तक कह देते हैं .और इनकी मस्जिदें जला देते है .और लोगों को क़त्ल कर देते है .शिया लोग तो मुहर्रम के समय सुन्नियों के खलीफाओं ,सहबियों ,और मुहम्मद की पत्नियों आयशा और हफ्शा को खुले आम गलियां देते है .इसे तबर्रा कहा जाता है .इसके बारे में अलग से बताया जायेगा .
    सुन्नियों के फिरके -हनफी ,शाफई,मलिकी ,हम्बली ,सूफी ,वहाबी ,देवबंदी ,बरेलवी ,सलफी,अहले हदीस .आदि –
    शियाओं के फिरके -इशना अशरी ,जाफरी ,जैदी ,इस्माइली ,बोहरा ,दाऊदी ,खोजा ,द्रुज आदि
    अन्य फिरके -अहमदिया ,कादियानी ,खारजी ,कुर्द ,और बहाई अदि
    इन सब में इतना अंतर है की ,यह एक दुसरे की मस्जिदों में नमाज नहीं पढ़ते .और एक दुसरे की हदीसों को मानते है .सबके नमाज पढ़ने का तरीका ,अजान ,सब अलग है .इनमे एकता असंभव है .संख्या कम होने के से यह शांत रहते हैं ,लेकिन इन्हें जब भी मौका मिलाता है यह उत्पात जरुर करते हैं .
    6 -इस्लाम अपने बिल में घुस जायेगा
    मुहम्मद ने खुद ही इस्लाम की तुलना एक विषैले नाग से की है .इसमे कोई दो राय नहीं है .सब जानते हैं कि यह इस्लामी जहरीला नाग कितने देशों को डस चुका है .और भारत कि तरफ भी अपना फन फैलाकर फुसकार रहा है .लेकिन हम हिन्दू इतने मुर्ख हैं कि सेकुलरिज्म ,के नामपर ,और झूठे भाईचारे के बहाने इस इस्लामी नाग को दूध पिला रहे हैं .और तुष्टिकरण की नीतियों को अपना कर आराम से सो रहे है .आज इस बात की जरुरत है की ,हम सब मिल कर मुहम्मद की इस भविष्यवाणी को सच्चा साबित करदें ,जो उसने इन हदीसों में की थीं .-
    “अबू हुरैरा ने कहा की ,रसूल ने कहा कि,निश्चय ही एक दिन इस्लाम सारे विश्व से निकल कर कर मदीना में में सिमट जायेगा .जैसे एक सांप घूमफिर कर वापिस अपने बिल में घुस जाता है ‘बुखारी -जिल्द 3 किताब 30 हदीस 100 .
    “अब्दुल्ला बिन अम्र बिन यासर ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ,जल्द ही एक ऐसा समत आयेगा कि जब लोग कुरान तो पढेंगे ,लेकिन कुरान उनके गले से आगे कंधे से निचे नहीं उतरेगी.और इस्लाम का कहीं कोई निशान नहीं दिखाई देगा ”
    बुखारी -जिल्द 9 किताब 84 हदीस 65
    “अबू हुरैरा ने कहा कि ,रसूल ने कहा है कि ,इस्लाम सिर्फ दो मस्जिदों (मक्का और मदीना )के बीच इस तरह से रेंगता रहेगा जैसे कोई सांप इधर उधर दो बिलों के बीच में रेंगता है ”
    सही मुस्लिम -किताब 1 हदीस 270 .
    “इब्ने उमर ने कहा कि ,रसूल ने कहा कि ऐसा निकट भविष्य में होना निश्चय है ,कि इस्लाम और ईमान दुनिया से निकलकर वापस मदीने में इस तरह से घुस जायेगा ,जैसे कोई विषैला सांप मुड़कर अपने ही बिल में घुस जाता है ”
    सही मुस्लिम -किताब 1 हदीस 271 और 272 .
    अब हम देखते हैं कि मुसलमान इन हदीसों को झूठ कैसे साबित करते है . आज लीबिया ,यमन और दूसरे इस्लामी देशों में जो कुछ हो रहा है ,उसे देखते हुए यही प्रतीत होता है कि मुहम्मद साहिब की यह हदीसें एक दिन सच हो जायेगीं ,जिनमे इस्लाम के पतन और विखंडन की भविष्यवाणी की गयी है .!

    http://www.faithfreedom.org/oped/AbulKasen50920.htm

  28. TKS said

    The bane of Hinduism is its tolerance. Because of this weakness of ours, we have been ruled and oppressed since centuries. If we want to save India and its hindu way of life, the hindus need to rise to the challenge and become intolerant for its own good. Else just stop talking and be prepared for annihilation.

  29. Mihir Nasikkar said

    I think the entire blame goes to Pt.Jawaharlal Nehru & Gandhi who stopped muslims going to Pakistan in 1947 as they wanted majority muslims votes.Tab agar Sardar Patel PM hote toh he had promised everyone that,” if i become the PM i will send all muslims in india to pakistan and will ensure that all hindus are safely send to india frm pak.”

    Saala apne netalog ko apne votes se pyaar tha aur apne vatan se nahin.

  30. ANANT.J.CHAMPANERI said

    that cunt should be shoot between the balls how dare stays in our country and making all these demands in ki maa ki choot maaroo. we live in a village and opposite our house we have had a mosque for god knows how many years we dont complain. we all live together as brothers, but its these cunts who make us fight against each other. fuck off to saudi or another islamic state if you dont like it in india. same for those who r with these barstard.
    your worst enemy
    proud to be indian.

  31. Harry K~ said

    Damn the Congress government they should be all hung and let the dogs free, how dare they agree to such atrocities against the Hindus, the oldest religion in the world the most respected and the most peaceful.
    About time India had another Subashji or LB Shastri I am totally like hundreds of millions of Hindus in the world that our own rights in our motherland has been abolished,just to accommodate this pathetic bastards, agree with the comments above as if the Hindus do not stand up now this corrupt government will sell the country and its values to our so called brothers this should be echoed all over the world and all the “Dharam Gurus” need to unite and storm the Lok Sabha, this is bloody ridiculous and the country is run by pimps who demand to take away our core rights and beliefs >This government and country needs a serious wake up call I have not intention of using foul language but any devout Hindu reading this should make their blood boil lets all take a leaf of history from the great Shvaji Raje
    Vande Mataram

  32. ratilal said

    These so called government know that what happens to the non muslims if they even request to follow there faith in any muslim countries. dear brothers my blood is also boiling.hope the people will kick the congress next time. will Mr.N.Modi will be next prime minister.very much hope so.

  33. If Hindus can not practice their belief in India then where can they do this, Saudi Arabia? The Congress is playing with fire! Appeasement of Hitler meant millions of Jewish people were killed. Ban all Muslim festivals from all of India. This is based on the same principle after all.

  34. Ashly Cs said

    I don’t know why we are waiting still when we have great proof of Muslim conspiracy that they exactly did in Jummu and wanted to convert it as a Muslim place. Who the hell told them that Jammu belongs to Muslims only?
    We have to stand like rocks until it’s too late and these Sonia and Manmohan government let the India as Muslim Nation. You don’t know how the Muslim monopoly in politics and in every trend is becoming successful through their population explosion, Urdu expansion, Mosque saturation and international aggression.

  35. Rakesh Sharma said

    lets not buy anything from Muslims and Hindus should not cheat each other. lets build a very strong, clean and only HINDU RASHTR.
    lets hold hand together and destroy them.
    jai Bharat Mata

  36. Praful said

    UPA govt has ruined the country much more than what colonial rulers did. Hell to ruling govt and whole heartedly support to Hindutva !

  37. Anil said

    This is toattaly rediculous for us. how can they behave like this. we must stand toether to fight with them.

  38. sunil said

    अभी भी कुछ मुर्ख हिन्दू अपने आप को , छत्रिय, ब्राह्मण , यादव , गुप्ता, मीना, मिश्र , राजपूत और ना जाने कितने विभिन्न जातियों में बाते हुए है, सभी साले है हिन्दू लेकिन अपने आप को धर्म के आधार पर नहीं जाती के आधार पर उपस्थिति दर्ज करवाते है, और आपस में लड़ते है इसका फायदा मुस्लिम, और इसाई उठाते है मित्रो अगर यही चलता रहा तो एक दिन सर पर टोपी पहन कर ये बोलेंगे की हम तो धर्म निरपेक्ष है टोपी में क्या रखा है जैसे मुलायम सिंह यादव और उसका बेटा उत्तर प्रदेश, नितीश कुमार मुख्या मंत्री बिहार ये सब साले धर्म निरपेक्षता का चादर ओढ़े पक्के जय चंद है ……………………..ज्यादा क्या लिखू भाई ये सब देख और सुनकर बहुत दुःख होता है ……………………………..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

 
Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 4,200 other followers

%d bloggers like this: