Struggle for Hindu Existence

*Hindu Rights to Survive with Dignity & Sovereignty *Join Hindu Freedom Movement to make Bharat Hindu Rashtra within 2025 *Jai Shri Ram *Jayatu Jayatu Hindu Rashtram *Editor: Upananda Brahmachari.

Muslim-Sikh Communal Riot kills 3 in Saharanpur injuring 100. High alert in Uttar Pradesh.

ਜੋ ਬੋਲੇ ਸੋ ਨਿਹਾਲ  … ਸਤਿ ਸ਼੍ਰੀ ਅਕਾਲ !

सिख वन्धुओं तलवार उठाना छोड़ देंगे, तो व्यवसाय भी बाँचा नहीं पायेंगे । उठो जागो । सोचो क्यों हो रहा हैं हानि । हिन्दु – सिख हो जाओ तैयार  । हो जाओ तैयार साथिओं हो जाओ तैयार । 

Oh Shikh, Chela of Gurus!! Will you only see the Jihad and attack on Gurdwaras?  Flame on the swords of Gurus and protect Dharma!!! 

ਵਾਹਿਗੁਰੂ ਜੀ ਕਾ ਖਾਲਸਾ ! ਵਾਹਿਗੁਰੂ ਜੀ ਕੀ ਫਤਹਿ !! 

Riot rocks UP again: 3 killed, several injured in Saharanpur clashes; shoot-at-sight orders against rioters.

4fb7db82-7e1a-4505-a8a2-0df3587abd72wallpaper1S. Raju |  Hindustan Times |  Meerut, | July 26, 2014:: Communal violence left Uttar Pradesh bloodied again with three killed (Five killed as reported by Jagran Website: HE Editor) and several injured in a clash between Sikhs and Muslims in Saharanpur on Saturday. Curfew was clamped and shoot-at-sight orders given against rioters.

The two groups fought pitched battles and burnt several vehicles, as home minister Rajnath Singh spoke to chief minister Akhilesh Yadav who assured him that the situation would be contained soon.

The communities, who clashed over construction on a disputed plot, fought with firearms, swords and stones and torched shops and vehicles.

One of the deceased, Sanjeev Kochar, died of bullet injuries. The second victim was identified only as Arif while there was no confirmation of the third’s identity. A constable and a home guard sustained serious injuries as the police stepped in to control the rampage.

They are both in critical condition.

The situation continued to be tense till late Saturday, as heavy security was deployed by the state government, officials said.

Over a dozen policemen were also injured in the violence. Curfew continues in a few areas under six police stations.

Police have arrested over a dozen people for inciting violence over a land dispute and sources in the home department said the tense situation was now under control.

Read: UP govt announces aid of Rs. 10 lakh to kin of deceased

Eight companies of the Provincial Armed Constabulary (PAC), six of the Central Reserve Police Force (CRPF) and two companies of Indo-Tibetan Border Police (ITBP) were deployed in the violence-hit areas.

Akhilesh Yadav has sought a detailed report on the clashes from the director general of police (DGP) AL Banerjee and chief secretary Alok Ranjan.

A team of home department and senior police officials also briefed the chief minister on the day’s developments.

27-07-14-pg01aPunjab chief minister Parkash Singh Badal also spoke to Akhilesh Yadav and expressed concern over the incidents that unfolded in Saharanpur during the day.

The rampage reportedly continued for several hours. “They broke shutters, torched shops and vehicles and fearlessly roamed around the area for hours,” said Amanpreet Singh, a member of the Guru Singh Sabha. The sabha claims the plot belongs to the gurdwara near which it is located while the Muslims call it a holy spot for the community. The matter is in court.

The fight allegedly began after the Sikhs started construction on the plot early Friday, and it turned ugly in no time, spreading to the old city areas.

The sabha officials claimed they had the court’s permission to do construction.

“We have the court order but whenever we approached the police for protection for the construction, they never paid heed to our request,” Amanpreet Singh said.

Bharatiya Janata Party (BJP) and Congress leaders condemned the violence and slammed the state government for its failure to control the law and order situation in the state.

The BJP’s state spokesman Vijay Bahadur Pathak said it was most unfortunate that while the state government did not miss any opportunity to blame his party for any communal tension, the government’s failure to check small incidents was at the root of all troubles in the state.

Read: SGPC to visit UP, assess situation

Congress vice-president Rahul Gandhi in a statement in New Delhi expressed his sadness at the communal clashes in Saharanpur.

“I am deeply saddened to hear of the clashes in Saharanpur,” Gandhi said.

Tension also brewed in Kanth area of Moradabad district as the BJP refused to back out of its proposed protest against district officials for “victimising its cadre”.  Read full report here. 

First hand report from Saharanpur l Massive destruction due to violence: ABP NEWS.

Locals horrified in riot-hit Saharanpur, Sikh rethink retaliation: ABP NEWS

Curfew in Saharanpur after communal clash, 3 dead: India TV

Update on Saharanpur Riots: Saharanpur communal riots: 20 arrested, curfew ‘strictly implemented’:: TOI.

Jathedar of Akal Takht directs to cancel all panthic conventions due to Saharanpur clashes:: TOI.

All you want to know about the Saharanpur riots in Uttar Pradesh: India.Com.

Saharanpur riot:  BJP accuses UP govt of promoting communal tension: TOI.

Blame game starts over Saharanpur violence: Post Jagran.

Azam Khan blames RSS for UP clashes: HT.

38 arrested; curfew to be relaxed for four hours Monday: DNA.

Saharanpur violence: Akali delegation meets Akhilesh: BS.

Courtesy: IANS | HT |ABP NEWS | AAJ TAK | TOI | India.Com | Post Jagran | HT | BS.

5 comments on “Muslim-Sikh Communal Riot kills 3 in Saharanpur injuring 100. High alert in Uttar Pradesh.

  1. skanda987Suesh Vyas
    July 27, 2014

    The suraas need to organize and arm themselves with better weapons against the asuaas. Dress to win, be trained to win. Stay united and organized, equipped and well funded.

    Gov’t cannot provide full protection, but should be grateful to those who protect themselves.

    Permanent solution for the problem is to make soon Bharat a Hindu State by grass root means while staying ready to effectively handle asura’s violence if it erupts. Security is everyone’s responsibility. Each person can do it according to his/her means and ability. Staying prepared and organized is the key to success.

    Terrorism can stop if somehow the terrorists are terrorized.
    To do so is not adharma (sin) per the Vedic dharma. For the Vedics, however, this is the last resort.
    (Unfortunately, for the Islamists violence is the first means to serve Islam interest.)

    jai sri Krishna!
    -sv

    Like

    • Sunil Joshi - Indrapuam
      July 28, 2014

      The Akhilesh Govt of UP is a failuer and it was responsible as well as the Muslim rioters and the Goondas of the Congress burning the shops of the Sikhs and Hindus in Saharanpur.It has totally failed to show its proper governance with the purpose of bringing together various all communities Hindu Muslims Sikhs Christians and others for having a unified voice and fight agains the communal and Muslim Extremists of the Congress Party , living in the multicultural community of our Country India , irrespective of their caste or religion.

      The Sikh Community will not take things lying down it has the support of the BJP and aims to have the responsibility to act as the representative ofthe Sikh & Hindu community in dealings with the Congress Goondas and Muslim rioters Modi has already taken Akhilesh’s Govt to task, Other state and local governments, as well as other Sikh & Hindu organisations and institutions have joined forces to take a stand against these communal forces in UP and to stop them. The Hindu and Sikhs will join hands Council will act to assist and promote the activities of harmony and expose the Goondas of the Congress. The BJP is a just and secular governence under Mr.Modi and it will not allow such riots by the Muslim rioters and the Congress Goondas to create disharmony in UP or elsewhere aqgainst the Hindus and Sikhs . Jai Hind . – Sunil Joshi (Director) Epoch Distribution Pvt Ltd, Epoch Towers, Noida, UP Tel 91-9560027575

      Like

  2. Saharanpur Reporter
    July 27, 2014

    सहारनपुर दंगे के लिए भाजपा सांसद ने इमरान मसूद को ठहराया जिम्मेदार: राघव लखन पाल, सांसद, सहारनपुर
    Imran Masood is behind the Saharanpur Riot: BJP MP.
    जागरण संवाददाता | लखनऊ। Jul 26,2014:: सहारनपुर सांप्रदायिक दंगे की आग में बुरी तरह से जल रहा है, लेकिन आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। स्थानीय भाजपा सांसद राघव लखन पाल ने आरोप लगाया कि दंगे के पीछे कांग्रेस नेता इमरान मसूद और सपा नेता पप्पू अकरम हैं।
    भाजपा सांसद ने कहा कि उन्होंने सहारनपुर के बेकाबू हालत को लेकर गृह मंत्री राजनाथ सिंह से बातचीत कर उन्हें हालात से रूबरू कराया है। राघव लखन पाल ने आरोप लगाया कि गृहमंत्री ने प्रदेश के मुख्यमंत्री से बात की और शांति बहाली के लिए केंद्र की ओर से अर्धसैनिक बल भेजे जाने की पेशकश की, लेकिन मुख्यमंत्री ने यह कहकर पेशकर ठुकरा दी कि सहारनपुर में हालत अब सामान्य हैं।
    इससे पहले भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी दंगे के लिए सीधे सूबे के असरदार कैबिनेट मंत्री आजम खान को जिम्मेदार ठहरा चुके हैं। इमरान मसूद से जब इस बाबत बात की गई है तो उन्होंने कहा कि मेरे ऊपर आरोप लगाकर राघव लखन पाल मानसिक दिवालियापन का परिचय दे रहे हैं। इमरान ने कहा कि भाजपा सांसद अभी भी चुनाव की मुद्रा में हैं और चुनावी जुबान बोल रहे हैं। मेरी प्राथमिकता शहर में अमन कायम कराने की है।
    गौरतलब है इमरान लोकसभा चुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी थे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर पूरे देश में सुर्खियों में आ गए थे।
    स्थिति अभी बेकाबू नहीं : डीजीपी
    सहारनपुर में भयंकर बवाल में दो लोगों की मौत हो गई है जबकि सैकड़ों घायल है, लेकिन प्रदेश के डीजीपी एएल बनर्जी अभी भी स्थिति को बेकाबू नहीं मानते। डीजीपी ने कहा कि वहां पर निर्माण को लेकर विवाद हुआ है। क‌र्फ्यू लगाने के बाद से हालात सामान्य हो गए है। वहां पर एहतियात के तौर पर 18 कंपनी पीएसी तथा पैरा मिलिट्री फोर्स को भेजा गया है। लखनऊ से भी एक कमिश्नर तथा डीआईजी स्तर के अधिकारी को मौके पर भेजा जा रहा है।

    सहारनपुर बवाल को आजम जिम्मेदार : लक्ष्मीकात बाजपेयी, अध्यक्ष, भाजपा, उत्तर प्रदेश
    Ajam Khan is responsible for Riots in UP: State BJP President
    जागरण संवाददाता | लखनऊ । Jul 26,2014:: मुरादाबाद के कांठ कूच के मद्देनजर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ.लक्ष्मीकात बाजपेयी कल रात ही मुरादाबाद पहुंच गए थे। आज सुबह वह शाहजहापुर के विधायक सुरेश खन्ना सहित अन्य नेताओं के साथ डीएम आवास पर पहुंचे।
    सहारनपुर में बवाल के लिए भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष लक्ष्मीकात वाजपेई ने प्रदेश के नगर विकास मंत्री आजम खा को जिम्मेदार ठहराया है। उनका कहना है कि आजम खा साप्रदायिकता फैला रहे हैं। श्री वाजपेई ने काठ में रिपोर्ट दर्ज कराने के बारे में कहा है कि वहा हमारे लोग पहुंच गए हैं, हम हार हाल में रिपोर्ट कराकर रहेंगे। उन्होंने कहा कि एसएसपी मुरादाबाद आज फिर दंगा कराना चाहते हैं, उन्होंने अपने लोगों को भीड़ में शामिल कर दिया है। जो काठ में पथराव कर दंगा कराना चाहते हैं। इसी कारण हम लोगों ने काठ जाने के बजाए डीएम आवास पर आना सही समझा। हम लोग काठ में रिपोर्ट दर्ज कराएंगे।

    सहारनपुर दंगा: आखिर कौन थे भीड़ को उकसाने वाले?
    Saharanpur Riot: Who did enraged the mass?
    जागरण | सहारनपुर (मुकेश त्यागी)। Jul 26,2014:: हाथों में धारदार हथियार और कमर में तमंचे अटे थे। कानून उनके पैरों तले था। गंगा जमुनी तहजीब किस्से कहानियों का हिस्सा लग रहा था। ऐसा लग रहा था कि नफरत के सौदागरों ने आम शहरी को झुलसाने की पूरी तैयारी कर रखी थी। दस नहीं बीस नहीं, करीब सौ से अधिक गोलियां जान लेने के इरादे से चलीं। कारोबार में व्यस्त रहने वाले अंबाला रोड पर उपद्रवियों ने दो दर्जन से अधिक दुकानों में लूटपाट के बाद आग के हवाले कर दिया।
    सवाल यह है कि हिंसा एक मामूली विवाद के बाद भड़की या सियासी जमावड़े ने इसे भड़काया। चर्चायें बहुत हैं, लेकिन ऐसी जो किसी नतीजे पर नहीं पहुंचाती। जब कुतुबशेर थाने में डीएम व एसएसपी के साथ विवाद के हल के लिए बैठक चल रही थी तो बाहर खड़ी भीड़ को किसने उकसाया? एकाएक हथियार और पत्थर कहां से आ गए? सड़क पर धरने में बैठे और निर्माण कार्य में लगे लोग एक दूसरे की जान के दुश्मन कैसे बन गए। मात्र बीस मिनट के अंतराल में सुबह अचानक हजारों की भीड़ कुतुबशेर थाने के आसपास कैसे पहुंच गई?
    सवाल यह भी है कि डीएम व एसएसपी से वार्ता करने वाले नेताओं का जाते ही किसके इशारे पर पुलिस पर फायरिंग व आगजनी की घटना हुई? घायलों में दोनों पक्षों के लोग हैं और ज्यादातर गोली लगने या धारदार हथियारों से घायल हुए हैं। क्या दोनों पक्षों ने कानून हाथ में लेने का इरादा बना रखा था? अगर हां, तो ये सब किसके इशारे पर हुआ। पुलिस-प्रशासन की दिलचस्पी इन सवालों के जवाब ढूंढ़ने में कभी नहीं रहती।
    यही सवाल बार-बार नासूर बन कर शहर को जख्म दे जाते हैं। शनिवार तड़के से पूरे शहर में अराजकता का जिस तरह नंगा नाच हुआ उसकी प्लानिंग पहले से तैयार थी, इसकी गवाह घायल, मौका और तमाम चीजों दे रहीं हैं। पूरे शहर में जिस तरह हिंसा फैली उससे साफ है कि बलवाइयों के पास अफवाहों का भी पूरा तंत्र था। छतों से खाकी पर फायरिंग की गई और करीब तीन घंटे से अधिक पथराव हुआ। मौके से मिला स्वचालित हथियार के खोखे गवाही दे रहे थे कि पूरी तैयारी पहले से थी।
    व्हाट्सएप और फेसबुक पर देखा दंगे का लाइव
    लोगों ने सहारनपुर दंगे का लाइव व्हाट्स एप और फेसबुक पर देखा। शनिवार को पुलिस की न्यूज मैसेज सेवा भी बंद रही, जो अन्य दिनों में जिलों में होने वाली हर घटना की सूचना व्हाट्स एप पर जारी होती थी। न्यूज की मैसेज सेवा क्यों बंद रही, इसका कारण तो पता नहीं चल पाया, पर व्हाट्स एप और फेसबुक पर लोगों ने दंगे का लाइव देखा। इसकी कवरेज पुलिस ने नहीं की थी, बल्कि दंगाइयों ने खुद पूरे घटनाक्रम को कैमरों में कैद कर उसे फेसबुक व व्हाट्स एप पर जारी कर दिया था। हालांकि न्यूज चैनल भी दंगे की रिपोर्टिग टीवी पर दिखा रहे थे।
    कई बार बैकफुट पर लौटना पड़ा था अधिकारियों को
    दंगाइयों के आगे पुलिस प्रशासन कई बार बेबस दिखा और बैकफुट पर आना पड़ा। इसी का नतीजा रहा कि दंगाइयों ने जमकर लूटपाट, आगजनी व फायरिंग की। सहारनपुर में दंगाइयों को नियंत्रण करने का प्रयास कर रहे पुलिस प्रशासन व अधिकारियों की एक न चली। यहां तक की कई स्थानों पर तो अधिकारियों ने इधर-उधर छुपकर अपनी जान बचाई। आलम यह था कि दोनों पक्षों के बीच आपस में टकराव के साथ-साथ अधिकारियों को भी निशाना बनाया जा रहा था। कुतुबशेर के सामने पुरानी मंडी में तो हालात ऐसे थे कि दंगाइयों ने अधिकारियों व फोर्स पर कई बार पथराव और फायरिंग करते हुए बैक फुट पर लौटने के लिये विवश कर दिया। इस दौरान छतों के ऊपर से भी पुलिस पर सीधे फायरिंग की गई। लोगों का कहना था अगर पुलिस प्रशासन ने तत्काल ही दंगाइयों पर एक्शन ले लिया होता तो ये नौबत नहीं आती।

    सहारनपुर में दंगा, पांच की मौत, क‌र्फ्यू, सैकड़ों घायल
    Saharanpur Riot, Five killed, Hundreds injured
    सहारनपुर | जागरण संवाददाता । Jul 26,2014:: गुरुद्वारे और कब्रिस्तान की जमीन को लेकर चल रहे विवाद से भड़की चिंगारी ने पूरे सहारनपुर शहर को सांप्रदायिक दंगे की चपेट में ले लिया। गुरुद्वारे में लिंटर डाले जाने को लेकर मामूली कहासुनी देखते ही देखते पथराव, आगजनी और फायरिंग में बदल गई। हालात बिगड़ते देख प्रशासन ने पूरे शहर में क‌र्फ्यू की घोषणा कर दी है। हिंसा में एक सिपाही समेत पांच लोगों के मारे जाने की सूचना है और सैकड़ों लोग घायल हैं। घायलों में नगर मजिस्ट्रेट कुंज बिहारी समेत कई पुलिसकर्मी भी हैं। सात लोग लापता हैं। प्रशासन अभी सिर्फ तीन मौत की पुष्टि कर रहा है। दंगा नियंत्रण के लिए रुड़की कैंट से सेना को बुलाने पर विचार किया गया,लेकिन बाद में प्रशासन ने कदम पीछे खींच लिए। दंगाइयों को देखते ही गोली मारने के आदेश जारी किए गए हैं।
    सहारनपुर के कुतुबशेर इलाके में अंबाला रोड पर गुरुद्वारा और कब्रिस्तान आमने-सामने हैं। गुरुद्वारे और कब्रिस्तान में जमीन को लेकर पुराना विवाद चल रहा है। इस विवादित जमीन पर हाल ही में हाईकोर्ट का फैसला भी आया है। इसके बाद दूसरे पक्ष ने शुक्रवार रात गुरुद्वारे में निर्माण कार्य शुरू करा दिया। शनिवार सुबह गुरुद्वारे में लिंटर डाले जाने का संप्रदाय विशेष के कुछ लोगों ने विरोध किया और थाने के सामने सड़क जाम कर धरना देने लगे।
    छिटपुट कहासुनी और धरना एकाएक नौ बजे के आसपास पथराव और आगजनी में बदल गया और देखते-ही-देखते अंबाला रोड की सैकड़ों दुकानें लूट के बाद आग के हवाले कर दी गईं। दोनों पक्षों की तरफ से फायरिंग शुरू हो गई। पुलिस पर छतों से फायरिंग की गई, जिसमें सेंसरपाल नाम के एक सिपाही की मौत की खबर है।
    हालांकि प्रशासन उसके देहरादून के जौली ग्रांट में भर्ती होने का दावा कर रहा है। हिंसा की खबर आग की तरह फैली और शहर के दूसरे इलाकों में भी पथराव, फायरिंग और आगजनी शुरू हो गई। आनन-फानन में स्कूल और बाजार बंद होने लगे। दंगाइयों ने सहारनपुर फायर स्टेशन को आग के हवाले कर दिया, कुतुबशेर थाने और धोबीघाट पुलिस चौकी में जमकर तोड़फोड़ हुई। अंबाला रोड, गुरुद्वारा रोड, रायवाला, नेहरू रोड, कोर्ट रोड, नुमायश कैंप, मिशन कंपाउंड आदि स्थानों पर दुकानों में आग लगा दी गई। जिसमें करोड़ों के नुकसान का अनुमान है। आगजनी काबू करने के लिए सरसावा एयरफोर्स स्टेशन के दमकल को मदद के लिए बुलाया गया। बाद में उत्तराखंड और शामली से भी दमकल गाड़ियां बुलानी पड़ीं।
    पुलिस-प्रशासन ने पहले कुतुबशेर, मंडी और नगर कोतवाली थानों में क‌र्फ्यू घोषित कर हालात काबू में करने के प्रयास किए, लेकिन पूरे शहर में आगजनी और पथराव के सिलसिले के चलते दस मिनट के भीतर शहर के सभी छह थाना क्षेत्रों में क‌र्फ्यू घोषित कर दिया गया। शहर का सबसे पॉश बाजार कोर्ट रोड भी हिंसा की चपेट में आ गया और पा‌र्श्वनाथ प्लाजा में दो दुकानों को फूंक दिया गया।
    डीएम, एसएसपी और आइजी ने शहर में मार्च किया और दूसरे जिलों से फोर्स तलब किया गया। क‌र्फ्यू के बाद मुख्य मार्गो पर ही हालात नियंत्रण में दिखे। प्रशासन के लिए सबसे बड़ी परेशानी मोहल्ले की गलियों में हो रही आगजनी पर काबू करना हो रही थी। सूचना के अनुसार हिंसा में पांच लोगों की जान गई है। हालांकि प्रशासन हरीश कोछड़, आरिफ और एक अज्ञात की मौत की ही पुष्टि कर रहा है। अपुष्ट सूत्रों के अनुसार एक व्यक्ति जैन नगर में मरा है। चिलकाना रोड पर एक किशोर की भी पहचान नहीं हो सकी है। हिंसा में घायल आरिफ ने मेरठ मेडिकल कालेज में दम तोड़ा। घायलों को जौली ग्रांट अस्पताल और मेरठ मेडिकल कालेज भेजा जा रहा है।
    एक मुकदमा,12 गिरफ्तार : प्रशासन
    सांय छह बजे पुलिस लाइन में डीएम संध्या तिवारी और एसएसपी राजेश कुमार पांडेय ने दंगे में तीन लोगों के मारे जाने की पुष्टि की है। जबकि एक सिपाही को गंभीर हालत में देहरादून के जौली ग्रांट में रेफर किया गया है। उन्होंने ने बताया कि फिलहाल इस मामले में एक एफआइआर दर्ज हुई है और एक दर्जन उपद्रवी गिरफ्तार किए जा चुके हैं।
    एसएसपी ने बताया कि इनमें दो कंपनी आरएएफ, दो आइटीबीपी, दो एसएसबी, एक सीआरपीएफ, चार पीएसी की कपंनियां शामिल हैं। क‌र्फ्यू में ढील के सवाल पर डीएम ने कहा कि इस पर तत्काल विचार नहीं किया जा रहा है।

    Like

  3. JP Singh ( Jatin)
    August 17, 2014

    SAMAJWADI PARTY – Must STOP this Rape of the Innocent Hindus & Sikhs in Uttarpardesh NOW ! This was pre-mediated, pre-planned and pre-organised Voilence where Looting and Rioting by the unruly Muslim Mob demands decisive action now than later to crush their evil designs under the foot otherwise another repeat of 1947 of deporting all these jihadi muslims from India to Pakistan will become a reality.If anyone is guilty for the destruction of Crores of property and livlihood and Peace and Harmony and the lives lost in the Saharanpur riots, it’s the SP of Akhilesh & Mulayam Singh Yadav. Every citizen of India wants to live in peace harmony & and progress . The Hindus and Sikhs in UP say we want our children to grow up in a normal country where there are civilised laws not the laws of a prison colony state of Akhilesh Yadav the Number One Leader of GOONDA RAJ .The Sikhs have been running Charatiable Organisatons and educational institutions since decades these very muslims who did this voilence begged them to give admission in their educational institutions 6000 students study out of which 1500 are Muslim Girls who get education and free medicines . The reason being their parents are afraid to send their daughters to the schools of Akhilesh Yadav SP Govt so that they are not raped by their goons and so called teachers. and SP Govt officials. . Prior to the Voilence Looting and Rioting on 26th July The Team of the SP Party in tandem with the bad elements Muslim rioters Ali Pappu and Imran Masood and others did a review and survey with the backup of the police and RAD to show them which areas to loot and riot and burn and which were sikh and hindu shops to be looted and a video to the effect was also made and later these very places rioting , voilence killings were done and the shops homes and properties were looted burned and destroyed . When he Hindus and Sikhs approached the PM of Punjab who was also informed of these riot voilence he then asked Mulayam Singh Yadav to explain and where was the Law & Order ? Then he also gave a warning to Akhilesh Yadav to tell these Muslim rioters and perperators of voilence burning and looting that the country made guns and pistols in the hands of young Muslim boys aged 16 years to 18 years and accompanied by Muslim Goonda elements with hand fire bombs and stone and brick projectiles which were hurled as innocent children, men & women and even young, old sikhs and hindu living in the area and other localities . The Goondas led by Mansour Ali Pappu even outraged the modesty of Hindu Women who were watching their shops being looted and burned but could not utter a single word for the fear of their life and whose husbands did not dare come out to see the condition of their shops which were burned down . These Pakistani backed Jihadi ISI perpretator group involved in this Muslim mob voilence numbered 5000 to 10000 Muslim rioters in Mob groups led by Imran Masood and Mansur Ali Pappu and the Haji were pouring onto the square from another direction and preparing to take on police for a second straight day Others were pouring inflammable liquid onto the shops after looting the goods and then puring it on the motorcycles and cars and vans and trucks parked outside the shops .The police authorities were standing and watching all this happening and took no action as all this voilence was pre – planned and well orchasterated only when the Muslims shot one of the police men they swung into action to restrict the mob from gathering in the square of Ambala – Saharanpur road coming into the shops and home areas of the hindus and sikhs and to prevent Muslim Mob rioters and looters from getting reinforcements later the Muslim mob came again and fresh escalation of violence buring of more shops and more houses and killing is alarming. We Hindus and Sikhs were shocked to hear of the dead and injured .Proterty worth Crores of rupees and 200 shops of Hindus and Sikhs were burnt and destroyed . Why ? Because the perperators of this Muslim Mob Voilence were none other than the SP Party Bosses Mulayam & Akhilesh.They now have the responsibility to compensate the losses of all the Sikhs and the Hindus , In this way it will also go towards fulfilling our PM’s Shri Narender Modi jis Dream of “Ache Din Aagye Hain” . All well off business houses as Birlas + Tatas + Ambanis should take this moral responsibility to do some good and we must form a NGO Trust to support these riot victims in Saharanpur whether they are Hindus or Sikhs and support their faimilies in this Tragedy perpetrated by the Anti – Indian Muslim Mobs and rioters supported by the SP Govt of UP. For the sake of the Hindu & Sikh Unity and Peace and Harmony and for the sake of the future of our country, I will pray that. These Muslims should not take the Law in their hands otherwise they will pay a heavy price. They may be large in numbers but they don’t have the real guts as they riot like cowards using young 16 to 18 year old Muslim boys as shields to attack and kill and harm unarmed Hindus & Sikhs. If this continues then we will get our own Hindu + Sikh Force with Humvees and Legal Arms to Protect ourselves as all Hindus and Sikhs in UP have lost faith in the SP Govt .India on yesterday announced a relief assistance of NRs 48 million for the victims of recent floods and landslide in different parts of Nepal, which has claimed nearly 220 lives in two weeks. “The government of India will provide Rs 30 million (NRs 48 million) assistance to the victims of recent floods and landslides in Nepal, But no relief to the Saharanpur riot victims as BJP says that UP belongs to SP Party this is discrimination and we have a biased govt instead of a secular one ” JAI HIND JP Singh -Epoch Distribution (P) Ltd- Epoch Towers. C-169, Sec. 63, Tel 120-4250511. Noida. UP.

    Like

  4. Nizam
    November 11, 2014

    JP Singh JATIN – We today fully agree with your comments . I being a Muslim am horrified as the truth has come out . The Mujahadeen and the ISI are supporting Pappu Ali and his Associates in Saharanpur and on their agenda are not only Muslim and Hindu/Sikh divide but to harass all the Hindus and their womenfolk in UP and Rajasthan and Bihar. I would like to give you all the details in person and visit your office. These Muslims are hiding in Madrassas in Mosques all over India.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

HinduExistence Editor in Facebook

Upananda at Twitter

%d bloggers like this: